The Great Thoughts Of Great Emperor Shivaji | Hindi || TechXByte


Pic courtesy : Internet


छत्रपती शिवाजी महाराज के 11 प्रेरणादायी विचार जो आपकी सोच को नई दिशा दे सकते है!

1. "आत्मबल, सामर्थ्य देता है, और सामर्थ्य, विद्या प्रदान करती है। विद्या, स्थिरता प्रदान करती है, और स्थिरता, विजय की तरफ ले जाती है।" ~ छत्रपति शिवाजी महाराज


2. ."एक सफल मनुष्य अपने कर्तव्य की पराकाष्ठा के लिए, समुचित मानव जाति की  चुनौती
स्वीकार कर लेता है।" ~ छत्रपति शिवाजी महाराज

3. "उत्साह मनुष्य की ताकत, संयम और अडिकता होती है। सब का कल्याण मनुष्य का लक्ष्य होना चाहिए। तो कीर्ति उसका फल होगा।" ~ छत्रपति शिवाजी महाराज

4. "अपने आत्मबल को जगाने वाला, खुद को पहचानने वाला, और मानव जाति के कल्याण की सोच रखने वाला, पूरे विश्व पर राज्य कर सकता है।" ~ छत्रपति शिवाजी महाराज

5. "कोई भी कार्य करने से पहले उसका परिणाम सोच लेना हितकर होता है; क्योकी हमारी आने वाली पीढी उसी का अनुसरण करती है।" ~ छत्रपति शिवाजी महाराज


6. "अंगूर को जब तक न पेरो वो मीठी मदिरा नही बनती, वैसे ही मनुष्य जब तक कष्ट मे पिसता नही, तब तक उसके अन्दर की सर्वौत्तम प्रतिभा बाहर नही आती।" ~ छत्रपति शिवाजी महाराज

7. "अगर मनुष्य के पास आत्मबल है, तो वो समस्त संसार पर अपने हौसले से विजय पताका लहरा सकता है।" ~ छत्रपति शिवाजी महाराज

8. "सर्वप्रथम राष्ट्र, फिर गुरु, फिर माता-पिता, फिर परमेश्वर।अतः पहले खुद को नही राष्ट्र को देखना चाहिए।" ~ छत्रपति शिवाजी महाराज

9. "शत्रु को कमजोर न समझो, तो अत्यधिक बलिष्ठ समझ कर डरना भी नही चाहिए।" ~ छत्रपति शिवाजी महाराज

10. "जब हौसले बुलन्द हो, तो पहाङ भी एक मिट्टी का ढेर लगता है।"  ~ छत्रपति शिवाजी महाराज

11. "स्वतंत्रता एक वरदान है, जिसे पाने का अधिकारी हर कोई है।" ~ छत्रपति शिवाजी महाराज

Share this

Related Posts

Latest
Previous
Next Post »

Thanks for visiting us!